देश में तमाम ऐसी बातें जिन पर रह रहकर निशाना साधा जाता है, उनमें से एक है मनु स्मृति। इस देश में 99 फीसदी हिंदू या उससे भी ज्यादा होंगे जिन्होंने ना मनु स्मृति को कभी देखा, ना पढ़ा और उसमें से कुछ मान भी रहे होंगे तो उन्हें पता भी नहीं होगा कि ये मनु स्मृति में लिखा है। लेकिन दलित एक्टविस्ट्स के निशाने पर मनु स्मृति रही है और इसके पीछे उनके पास ढेर सारे तर्क हैं, जिनमें से कई को उनके विरोधी नहीं मानते। सो मुद्दा सालों से चल रहा है, ऐसे में जबकि अमेरिका और ब्रिटेन में जॉर्ड फ्लॉयड की हत्या के बाद उठे तूफान के चलते तमाम मूर्तियां जमींदोज कर दी गई हैं, लिबरल्स की नजर अब राजस्थान हाईकोर्ट के जयपुर परिसर में लगी मनु की मूर्ति से एक महिला प्रोफेसर ने पूछा है कि ‘मनु तुम खौफ में तो नहीं हो? तुम्हें होना चाहिए’।

इस पोस्ट को लिखते समय रश्मि नायर ने कोलम्बस की एक मूर्ति को गिराते वक्त की खबर फोटो के साथ शेयर की है, वो इशारा कर रही हैं, कि मनु की मूर्ति भी ऐसे ही गिरेगी। सांकेतिक तौर पर तो किसी को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए, लोकतंत्र में विरोध पर कोई आपत्ति नहीं होती। लेकिन कानूनी दिक्कत उनके लिए शर्तिया हो सकती है, क्योंकि लोग कह रहे हैं कि वो आम लोगों को इस मूर्ति को तोड़ने के लिए भड़का रही हैं, उकसा रही हैं और वो भी हाईकोर्ट के परिसर में से, ये सीधे सीधे कानून का मजाक बनाने जैसा है। एक भाईसाहब ने तो राजस्थान पुलिस को ही टैग कर दिया है कि ये लोगों को भड़का रही हैं, इन पर एक्शन लिया जाए तो स्थानीय सांसद राठौर को भी टैग कर दिया है

इस महिला रश्मि नायर का ट्विटर प्रोफाइल आप देखेंते तो पाएंगे कि वो खुद को अशोका यूनीवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर लिख रही हैं, उनकी तमाम पोस्ट दलित एक्टिविस्ट्स और उनके मुद्दों से ही जुड़ी हैं। वो अगले ट्वीट में ये भी बता रही हैं कि मैंने मनु की मूर्ति के बारे में ऐसा क्यों लिखा है, दरअसल उन्होंने एक लेख लिखा है, वो चाहती हैं कि ये ज्यादा से ज्यादा पढ़ा जाए

हो सकता है वो अपनी जगह सही हों, लेकिन लोगों लग रहा है कि विदेशी मुद्दों को भारतीय मुद्दों से जोड़ना ठीक नहीं है, उनके अपने तर्क हैं

जाहिर है बड़ा मुद्दा है, लोगों के तमाम पॉलटिकल एजेंडों से जुड़ा है, ऐसे में ये मुद्दा आसानी से हल होने वाला नहीं। लेकिन क्या ये इतना आसान है कि कोई भी लेख लिखे और हाईकोर्ट परिसर में लगी मूर्ति को तोड़ने की बात करे और वो बच भी जाए, गलती भी ना माने। देखिए आगे क्या क्या होता है!