नई दिल्ली: भारत में कोरोना को लेकर एक और बुरी खबर आ रही है. मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के रिसर्च के मुताबिक कोरोनो वायरस महामारी का सबसे बुरा दौर भारत में आना अभी बाकी है. रिसर्च के मुताबिक भारत में जल्द ही कोरोना की दवा या वैक्सीन नहीं बनी तो कोविड-19 के मामलों में भारी उछाल देखने को मिल सकता है. रिसर्च के मुताबिक वैक्सीन ना आई तो 2021 तक आखिर तक भारत में हर दिन 2.87 लाख कोरोना के मामले आएंगे जिससे भारत अमेरिका और ब्राजील को पीछे छोड़कर दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित देश बन जाएगा.

एमआईटी के स्लोन स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के हाजी रहमानंद, टीआई लिम और जॉन स्टेरमैन द्वारा आयोजित स्टडी में कहा गया है कि 2021 तक इसी समय तक जहां भारत में 2.87 लाख केस रोज आएंगे तो अमेरिका में 95,400, दक्षिण अफ्रीका में 20,600, ईरान में 17,000, इंडोनेशिया में 13,200, ब्रिटेन में 4,200 और नाइजीरिया में 4,000 मामले सामने आएंगे.

स्टडी में ये भी कहा गया है कि इलाज या टीकाकरण के अभाव में 84 देशों में 2021 तक 249 मिलियन यानी करीब 24.9 करोड़ लोग कोरोना संक्रमित होंगे. अनुमान है कि इससे करीब 17.5 लाख मौतें हो सकती हैं. भविष्य में कोरोना के संक्रमण का यह आंकड़ा टेस्टिंग पर नहीं, बल्कि संक्रमण को कम करने के लिए सरकार और आम आदमी की इच्छा शक्ति के आधार पर अनुमानित है. जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के मुताबिक वैश्विक COVID-19 मामलों की कुल संख्या बढ़कर 11.7 मिलियन से ज्यादा हो गई है, जबकि मृत्यु 543,000 है.